Wednesday, April 27, 2016

आप खुद एक नुमाइश है !


आप ट्रैन पकड़ने की भागदौड़ में है । प्लेटफार्म के लिए लगे एस्केलेटर पर चढ़े जा रहे है । आपके ठीक दो सीढ़ियों ऊपर एक युवती खड़ी है ,बेहद छोटी पोशाक में !
कितनी छोटी ? आपकी कल्पनाओं के चरम स्तर से  बस थोड़ी सी बड़ी !
माने , नितम्ब के नीचे जो अर्ध चंद्राकार गोलाई बनती है ना , वो भी दर्शनीय है ।
और हाँ दर्शन भूलवश या वार्डरोब मालफंक्शन के चलते नहीं ।  अजी , ट्रेंड चल रहा है इधर ।
स्वागत है आपका, एशिया के गौरव सिंगापुर में !

 चिंताओं के पाताल लोक में  भी लिप्त क्यों न हो दिमाग , फिर भी पूछता ही है " अब इससे आगे क्या ?"

क्या कहा ? आपका नहीं पूछता । सही है , कोई विवाद नहीं , आपकी  संत आत्मा को हमारा साष्टाँग प्रणाम पहुंचे ।

भौतिक वाद , वस्तुवाद जब निर्जीव खिलौनों से निकल व्यक्तिगत स्तर तक उतरता  है न तो यही होता  है ।

वैसे इसमें थोड़ा कल्चर का पहलु  भी देखा जा सकता है । साउथ ईस्ट एशियाई देशो में पहनावे को लेकर अपने घर के यहाँ से ज्यादा उदारता तो है ही । काफी ज्यादा ।
चूँकि मैंने पाया है , देश से निकल ऑनसाइट आने वाली युवतियाँ खुले आसमान में उडारी मारने के हौसले का प्रदर्शन करती तो जान पड़ती है , पर स्कर्ट नी लेंथ से  ऊपर ले जाने की हिम्मत कम ही होती है ।
कल्चर , यु नो ! ;)

बात पोशाक और पहनावे की चल ही रही है तो एक वाकया और ।
चीनी परुषों का मिज़ाज़ भी अलग होता है अपने यहाँ से । जिम ज्वाइन करने के पहले दिन चेंजिंग रूम में गया तो पाया वहाँ का दर्शन कुछ अलग ही था । कोई भेद नहीं , सब निपट नंगे , एकदम खुली नुमाइश !  और हाँ किसी के चेहरे पे कोई भाव नहीं ।  कोई अचम्भा  नहीं । सब अपने में बिजी । चीनी और अँगरेज़ निपट नंगे इधर उधर चहलकदमी करते दिखाई पड़े ।  केवल भारतीय और मलय मूल के पुरुष ही लज्जा निवारण को बड़ी सफ़ेद तौलियों के पीछे छुपते नज़र आये ।

हाँ एक देसी अंकल दिख रहे है पिछले दिनों से , जिन्होंने अपने पिछड़ेपन को छोड़ आधुनिकता  को अपना लिया है । कई दिनों से ये जनाब भी रौ में बह अपनी दूकान खुली छोड़ आराम में  नज़र आते है । इण्टर रेशियल हारमनी के लिए अच्छा है , मिल जुल के रहना चाहिए, सबके जैसा दिखना चाहिए  ।

बात नुमाइश की है तो जनाब आप कौन सा कम है ।
आप पचासों फोटो में से छांट छूट ऐसी फोटो फेसबुक पे डालते है जिसमे आपने सांस खींच पेट अंदर दबाया हो , एडिट कर ब्राइट कर डालने में भी गुरेज़ नहीं करते । आप हमेशा 'चिलिंग आउट ' मोड में होने का प्रदर्शन करते है ,चाहे अभी थोड़ी देर पहले मैनेजर ने आपका तबला बजाया  हो  ।
आप इधर उधर की पंचलाइन चुरा अपनी बना सोशल मीडिया पे पोस्ट करते है । इंटेलेक्चुअल वाद विवाद लाइक डिस्लाइक मारते है , चाहे मामले की जड़ पूछ पता हो या न पता हो ।
नया मोबाइल हो या नयी कार या नयी बीवी, छोटी से छोटी ट्रिप , लंच-डिनर  सबका प्रदर्शन फेसबुक पर , एकदम फुकाउ मोड  में होते है आप ।

स्वागत है आपका भौतिकवाद , वस्तुवाद के नए युग में !
अपनी पैकेजिंग , एडवरटाइजिंग सही से , करीने से कीजियेगा , आप एक  वस्तु है !
माने , जनाब आप खुद एक नुमाइश है !

बुरा न मानियेगा वैसे , छोटी पोशाकों को देख फील गुड हार्मोन्स एंडोर्फिन, सेरोटोनिन तो रिलीज़ होते है  कम से कम ।  आपकी नुमाइश तो अमूमन हमारा मूड ख़राब कर जाती है , आप बेबजह , बेहिसाब  खुश नज़र जो आते है !
                                                                    --सचिन कुमार गुर्जर




No comments:

Post a Comment

टिप्पणी करें -