मंगलवार, 9 अगस्त 2022

अगले साल वापस

 


 

सिंगापुर  का  सिटी हॉल मेट्रो स्टेशन | शाम को ऑफिस छूटने की भीड़ है |   दिल्ली जैसी धक्का मुक्की तो नहीं पर डब्बा फुल है |  अंग्रेजी , केंटोनीज़ , होक्कैन , तमिल , मलय मिक्स  के ऊँचे डेसीबल के बीच  सामने की सीट पर दो पुरुष हिंदी में बतला रहे है | बोलचाल , मिजाज से दिल्ली के आसपास के लगते है | कॉर्पोरेट की चाकरी करते है | बड़ा चालीस जमा का है | छोटा शायद पैंतीस हो या उससे भी कम | खाता पीता है , शायद शरीर के भारीपन से उम्रदराज दीख पड़ता है |  

छोटा बड़े से मुखातिब हो कह रहा है " पता नहीं क्यों , ऑफिस में सब सरप्राइज क्यों होते है , जब मैं पेरेंट्स के लिए इंडिया वापस जाने की बात करता हूँ | "

और बड़ा आदमी कुछ ऐसी तबियत से सुन रहा है जैसे कोई साइको थेरेपिस्ट हो  | "हाँ ये तो है | " इतना भर कहता है बस | 

मैंने  लाइब्रेरी से उधार में ली शार्ट स्टोरीज की बुक खोली है पर उनका वार्तालाप मेरा ध्यान खींच रहा है | 

छोटा पुरुष " वो इंफ़्रा टीम का जतिन है न ? "

" हाँ | "

"उसका एक छोटा भाई भी है | पुणे में जॉब करता है | उसकी मदर इंदौर में रहती है | अकेले | कभी गाँव चली जाती है बेचारी | फिर वापस अकेले इंदौर के मकान में | "

वो झुंझुला रहा है | "यार हम अपने किड्स के लिए सब कुछ करते है | हर स्ट्रगल , हर सैक्रिफाइस | क्या हमारे पेरेंट्स ने हमारे लिए ये सब सैक्रिफाइस नहीं किया | किया है कि नहीं ?अपने टाइम के हिसाब से उनसे जो बन पड़ा , वो किया है | गलत बोल रहा हूँ ?"

"बिलकुल किया है | " बड़ा पुरुष हामी भरता है | 

"फिर हमारी कोई ड्यूटी बनती है कि  नहीं ? मैं तो अकेला नहीं छोड़ सकता | पैसा ही सब कुछ थोड़े ना है | "

"और आरती ? वो वापस जाना चाहती है ?" बड़े ने पहली बार सवाल दागा | 

"वो कभी हाँ नहीं करेगी | मुझे ही कदम लेना पड़ेगा | "

मेरे स्टेशन से पहले ही वे दोनों ट्रैन से उतर रहे है | और कोहलाहल के बीच मैं छोटे आदमी को घोषणा करते हुए सुनता हूँ " इस साल देखता हूँ बस | अगले साल वापस !"


पास की सीट खली होने से मैं  तिरछा हो बाहर देख मुस्कुरा रहा हूँ | ट्रैन की  रफ़्तार के साथ हाउसिंग बोर्ड की बिल्डिंग्स पीछे छूटती जा रही है | इन बिल्डिंगस पे अलग रंग की पट्टियां जरूर खिची हैं | कुछ की सपाट सतहों पर मुराल बने हैं | पर ये सब किस हद तक एक जैसी है | इनके खाके , इनका मैटेरियल ,  इनका इतिहास , इनका मुस्तकबिल | सब मिलता जुलता ही है | 

और ठीक वैसी ही मिलती जुलती है हम हिन्दुस्तानियों की कहानियाँ , हमारी जद्दोजहद , हमारे सपने , हमारे फ़र्ज़ | 

अगर वो पुरुष मेरा परिचित होता न | तो मैं  उसकी उद्धघोषणा के बाद उसके कंधे पर हाथ मारता और कहता " नहीं जा पायेगा भाई | अगले साल वापस नहीं जा पायेगा | शायद अगले दस साल भी नहीं !" 

"वो यूँ कि जिस  फ़र्ज़ की तराजू का एक पड़ला तुम्हे इंडिया जाने के लिए खींचता है | उसी फ़र्ज़ की तराजू का एक दूसरा पड़ला भी है | जो अमूमन पहले पडले से भारी होता है | "


                                                                                सचिन कुमार गुर्जर 

                                                                                बेडोक मेट्रो स्टेशन , सिंगापुर 

                                                                                 5 अगस्त , 2022 

                                                                                 

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी करें -

शुक्रवार की शाम

  शुक्रवार की शाम का अपना एक दबाव  होता है | दबाव यह कि शाम जाया नहीं होनी चाहिये | और इसी के मद्देनज़र मैंने दो तीन दोस्तों को संदेशा भेजा ह...