Sunday, February 1, 2015

आप के मेनिफेस्टो के बाद वेतन कटौती की ताक में कम्पनियाँ


नयी दिल्ली

आम आदमी पार्टी के मैनिफेस्टो के आने के बाद से दिल्ली और उससे सटे इलाको के तमाम आई टी कारखानो में काम करने वाले कर्मचारियों के वेतन में कटौती की जा सकती है । 
हमारे संवाददाता ने इधर उधर हो रही कानाफूसी का सत्यापन करने को कई बड़े कारखानो के मैनेजरों को फ़ोन किया । 
नाम न छापने की शर्त पे एक नामी गिरामी सॉफ्टवेयर फर्म के बड़े ओहदेदार ने हमे बताया 
"देखिये , हमारे आर्गेनाइजेशन की हमेशा से कोशिश रहती है कि ऑपरेशनल कॉस्ट को कम से कम किया जाये । अब चूँकि दिल्ली में आम आदमी पार्टी का आना लगभग तय हो ही चुका  , तो एक बात तो साफ़ है कि जो भी पार्टी मेनिफेस्टो में है , उसका अक्षरश पालन होगा !"

"हाँ , लेकिन आप किसी पार्टी के मेनिफेस्टो की आड़ में तमाम 'लाचार' , 'बेचारे' आई टी मज़दूरों  की दिहाड़ी कैसे कम कर सकते है ? ये तो उनके साथ प्रतिघात होगा, इस पर विवाद होगा , धरना होगा!  " संवाददाता ने उकसाते हुए पूँछा । 

मैनेजर साहब ने समझाया " देखिये , हमारे वेतन कटौती के फैसले से हमारे होनहार , 'ना बेचारे' , 'ना लाचार' कर्मचारियों पे इत्ता सा भी फर्क नहीं पड़ेगा , बल्कि फायदा ही होगा  जी "

"हैं जी , वो कैसे ?"

"आपने नया मैनिफेस्टो पढ़ा है न , उसमे कुछ चीज़े बड़े ही काम की है  जैसे सस्ती बिजली , मुफ्त पानी , फ्री वाई फाई !"

"हमारे होनहार इंजीनियर्स की आधी समस्या का निस्तारण तो यही हो गया "
"अजी बाकि छोड़िये  , अकेला 'फ्री वाई फाई' ही उनकी आधी समस्या हर लेगा!  है कि नहीं ? "

"इसके बाद अगर कही हमारे कर्मचारियों का वेतन जाता है तो वो है दारु का ठेका । दारु इतनी महंगी है तो कर्मचारी बचाये क्या , बाबा जी का ठुल्लु !"

" नयी पार्टी के मैनिफेस्टो में दारुबंदी का ऐलान है , इससे उनकी बचत में गुणात्मक इजाफा होगा । सेहत में भी सुधार होगा !"

"फिर नयी पार्टी का सस्ते किफायती और सबके लिए घर का वादा , इसके बाद तो वैसे वेतन की जरूरत ही कोई ना है , सो हमने फैसला कर लिया है कि सभी कर्मचारियों के वेतन में करेक्शन किया जाये !"

"कुल मिला के मासिक बचत में इजाफा ही होगा! " 

हालाँकि आधिकारिक फैसले का ऐलान नयी पार्टी की सरकार आने पर ही होगा पर कुछ इस तरह का मंथन सभी नामी गिरामी प्राइवेट फर्मों में चल रहा है । 

मैनेजर्स का ये लॉजिक 'ईमानदार  लाओ , दिल्ली बचाओ' के 'दिल से' वॉलिंटेर्स  को नागवार गुजर रहा है । 
उनकी बेचैनी को भांपते हुए ईंमानदार पार्टी के सबसे बड़े ईमानदार नेता से थोड़े कम ईमानदार नेता ने भरोसा दिलाया है  कि वॉलंटियर्स चिंता न करे , जालिमों को चित्त करें , सरकार आ जाएगी तो जो जो भी फेसबुक ट्विटर पर ईमानदार पार्टी के सपोर्ट में बटन दबाता है , उसके वेतन में ग्यारह पर्सेंट का  'दिल्ली रक्षक , दुष्ट भक्षक ' कम्पोनेंट जुड़वा दिया जायेगा !

                                                               -- सचिन कुमार गुर्जर 




1 comment:

टिप्पणी करें -