Monday, March 3, 2014

खूब रोई दमयन्ती


अभी पिछले दिनों अपने गाँव की एक शादी में शिरकत का मौका मिला ।  सिंहासन पे बैठी वधुबाला  वर को अपने रिश्तेदारो से परिचित करा रही थी । दोनों एक दुसरे को पहले से ही जानते थे , अपनी पसंद से ही शादी कर रहे थे । दोनों अच्छे पढ़े लिखे , दोनों कमाने  वाले  । परिवार वालो ने सहर्ष स्वीकार किया था दोनों का फैसला । विदाई हुई तो माहौल कुछ ग़मगीन सा हुआ , पर आँसू रिवायती ही जान पड़ते थे ।
आह न थी , टूटने की करुण चीत्कार न थी । अच्छा ही है , परिवर्तन का दौर महिला सशक्तीकरण और बेहतर जीवन का आश्वासन देता जान पड़ता है । 
 
कल अमृता प्रीतम की एक किताब पढ़ रहा था । किताब  चालीस पचास के दौर में भारतीय नारी के जीवन संघर्ष की दास्तां से भरी हुई है । रुँआसा हो आया था मन , कितना त्याग , कितना समर्पण फिर भी नरक सा जीवन । 
अहसास हुआ , अरे वो दौर तो हमारे बचपन तक खिंचा  था ।अतीत के अधियारे युग के उत्तरार्ध के साक्षी तो हम भी रहे है । बाल विवाह ,बेमेल विवाह ,अशिक्षा और महिला वस्तुकरण के  दौर के मूक गवाह हम भी रहे है ।  अमृता की सहेलियों का जिक्र उनकी किताबों में तो आया । गाँव टोलो  की न जाने कितनी मासूम तो गुमनामी के अँधियारो में अपना जीवन काट चुकी ,कुछ जीवन पथ पर घिसट रही है। 

ऐसा ही एक वाकया है दमयंती के विवाह का । जिसे मैंने खुद अपने कानो से अपनी दादी से सुना था । 

दमयंती एक हँसती खेलती इकहरे हाड की बच्ची थी । अपनी हमउम्र सहेलियों जैसी ही । स्कूल से दूर दूर का भी वास्ता न था । घर का चौका बर्तन करती । उपले गोबर का काम करती । गाय भैंसो की देख भाल करती । फुर्सत होती तो पड़ोस की सहेलियों संग गुड़िया गुड्डो का खेल भी खेल लेती । दमयंती के बापू लम्बे कद के रौबीले इंसान थे । रंग साँवला था पर खाए पिए की चमक चेहरे पे दिखती थी । रौबीली मूछे थी , आवाज़ मूछों से भी ज्यादा रौबीली थी । जमीन जयदाद अच्छी खासी थी । तब शादी विवाहों के फैसले चौपालों पे हुक्का गुड़गुड़ाते हुए ही हो जाया करते थे । दमयंती के बापू ,दमयंती के रिश्ते की जुबान पास के गाँव के सरपंच को दे चुके थे । 

काल बड़ा बलबान होता है , जब जिसका बुलावा आ जाये , जाना पड़ता है । दमयंती के बापू का भी बुलावा आ गया । निर्मोही ने छोटे छोटे बच्चो का भी कुछ न सोचा । दमयंती खूब रोती  थी ,पर ऊपर वाले की मार के आगे सब निहत्थे है । 

इधर बापू की तेहरवीं निपटी उधर पास गाँव के सरपंच ने शादी का दबाब बनाना शुरू कर दिया । सीधी साधी दमयंती की माँ ना  भी ना  कर सकी । तय हुआ , गेहुं की फसल उठते ही बारात आ जायेगी । ग्यारह बारह साल की दमयंती को इस सब का कुछ  पता न था । पता होता तो भी उसे  कौन सा न करने का अख्तियार मिल जाता । उस दौर के बच्चों को ग्यारह बारह साल की उम्र में जीवन ज्ञान  कम ही होता था ।

 
 खैर दिन आया , बारात द्वारे आ पहुंची । दूल्हा दमयंती से उम्र में बहुत बड़ा था । पच्चीस छबीस का तो रहा ही होगा । परिवार , गाँव की औरतो ने खूब लानते दी । क्या देखा ? फूल सी नन्ही लड़की और ये पत्थर सा ,उम्रदराज  वर । वर के व्यवहार और चाल ढाल में भी मृदुलता न थी । कोई मेल न था । पर उस पुरुष प्रधान समाज में किसी की हिमाकत न थी कि जी खोल के बोल भी दे । 

 दमयंती भावहीन थी । न दुःख का भाव ,न कोई ख़ुशी । हो सकता है उसके  बालमन ने सदमे और गम में भावहीनता धारी हो या हो सकता है कि उस कम उम्र में कुछ समझ ही न रही हो कि उसका जीवन भाग्य बंधा जाता है । विदाई का समय आया । दमयंती न रोई ,न सुबकी । बस बुत सी बनी रही ।किराये की अंबेस्डर कार द्वारे आ खड़ी हुई । परिवार पड़ोस की बड़ी औरतों ने दमयंती को समझाया । री भलमानस झूठ माट का ही रो दे , अपशगुन हुआ जाता है । उन दिनों बिना दहाड़े मार मार रोये कोई डोली न उठती थी । दमयंती न रोई ।औढ़नी में दमयंती को लपेटे औरतों का जमघट कार की ओर  बढ़ चला । मोहल्ले की सबसे बुजुर्ग और समझदार चौधरन से रहा न गया । गाँव टोले की बेइज़ज़ती हुए जाती थी । क्या सोचेंगे रिश्तेदार । लड़की कैसी निर्लज है , रोई तक नहीं । घर वाले दुःखी रखते होंगे जो ऐसे मौके पे चुपचाप है । दमयंती की सुर्ख लाल ओढ़नी में चुपके से अपनी सूखी, कठोर कोहनी घुसा एक जोर की कोहनी दमयंती की भूखी कोख में दे मारी । चौधरन बूढी जरूर थी पर मजबूत हाड थी । 
बेचारी दमयंती की चीख निकल गयी । दर्द के मारे फ़क्फका के रो पड़ी । चौधरन ने बच्ची को गले से लगा लिया और रुँआसी होकर बोली ' रो मत लाडो , पीहर में किसका गुजारा  है , सबै ही जाना होता है ।'
दूसरी औरतो ने हाँ में हाँ मिला दी । सब फूट फूट के रोई । शायद सबको अपने दिन याद आये होंगे । मायके के दिन , अल्हड लाड दुलार के दिन । 
फिर गुजरियों ने मिलकर गीत ठा लिया ' लाडो रोवै मत ना , धीरज खोबे मत ना........ "
 विदा हो गयी दमयंती , साथ विदा हो गया उसका बचपन । एक नन्ही जान का बचपन छिन  गया समाज ने उफ्फ तक न की । 

अगले दिन शाम के पहर ढोर डंगरों के काम से निपट चौधरन , दादी के साथ हुक्कडी गुड़गुड़ाते  हुए वृतान्त सुना सुना के खूब हंसी ।  उस दौर में नारी जाति  का यही भाग्य था । किस्मत हुई तो अच्छा साथी मिल गया , बर्ना जिसके साथ बाँध दी उसी की हो चली । आम बात थी बेमेल ,बाल विवाह और आम बातों का मलाल कौन करता है ।गाँव टोले की इज्जत रह  गयी । चौधरन की कोहनी के  वार और नासमझ बच्ची की करुण चीत्कार ने रीत रिवाज़ को जिन्दा रखा था ।

                                                                                                            सचिन कुमार गुर्जर


शब्दावली :
पीहर : माँ का घर।, मायका
ढोर ,डंगर : पालतू पशु

* कहानी में पात्रों के नाम काल्पनिक है

No comments:

Post a Comment

टिप्पणी करें -